नारियल क्षेत्र में प्रसंस्करण को बढ़ाये जाने की आवश्यकता है : शरद पवार

D-1996केन्द्रीय कृषि मंत्री शरद पवार ने नारियल बोर्ड द्वारा आयोजित राष्ट्रीय पुरस्कार 2008 वितरण कार्यक्रम का उदघाटन किया।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए श्री पवार ने कहा कि नारियल लाखों छोटे और सीमांत कृषकों की आजीविका है। केन्द्र सरकार इस फसल के विकास को सबसे अधिक प्राथमिकता देती है। सरकार के विभिन्न प्रयासों से नारियल का उत्पादन, उत्पादकता और इस क्षेत्र के मूल्य संबर्धन में महत्वपूर्ण रूप से वृध्दि हुई है। उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पूरी तरह से इंडोनेशिया और फिलीपीन्स पर निर्भर है और भारत को अंतर्राष्ट्रीय बाजार में आने का लक्ष्य बनाना चाहिए खासतौर पर इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए कि केन्द्र सरकार विशेष कृषि उद्योग योजना के अंतर्गत कृषि क्षेत्र के उत्पादों और कृषि आधारित उद्योगों की सहायता बड़ी मात्रा में बढा रही है।

इस अवसर पर श्री पवार ने घोषणा की कि केन्द्र सरकार ने हाल ही में केरल और अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूहों में पुन: पौधारोपण योजना मंजूर की है। इस परियोजना पर 2275 करोड रुपये का व्यय आएगा और केंद्र 478 रुपये की सब्सिडी प्रदान करेगा। योजना के तहत बीमार पौधे पूरी तरह हटा दिये जाएंगे जिसके लिए केंद्र सरकार प्रति पौधा 500 रुपये की सब्सिडी तथा प्रति हेक्टेयर तक 13 हजार तक की सब्सिडी दी जाएगी।

1 comment to नारियल क्षेत्र में प्रसंस्करण को बढ़ाये जाने की आवश्यकता है : शरद पवार

Leave a Reply

You can use these HTML tags

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>