भारतीय स्टेट बैंक के प्रबंध निदेशक ए. कृष्ण कुमार ने लोक पंचायत द्वारा पूछे गये महत्वपूर्ण प्रश्नों के उत्तर दिये –

 ग्रामीण क्षेत्रों में बिचौलिये भी सक्रिय रहते हैं इसको कैसे रोकेंगे?

हां ,यह एक बड़ी समस्या है, इसके निदान के लिए हम भर्ती कर रहे हैं। प्रोबेशन अधिकारी जो ग्रामीण क्षेत्रों में काम करेंगे। सरल मार्केटिंग रिकवरी आफिसर का पद भी बनाया है। स्टाफ की संख्या अगर ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ाई जाती है तो स्टाफ स्वयं किसानों से बात करेंगे जिससे बिचौलियों की समस्या समाप्त हो सकती है।

 

कृषि क्षेत्र के लिए इस वित्त वर्ष में बैंक ने क्या लक्ष्य निर्धारित किया है?

कृषि विकास के अन्दर 20 से 22 प्रतिशत तक वृद्धि करने का लक्ष्य किया था, लेकिन परिस्थिति ठीक नहीं रहने के कारण कुछ कम हो सकता है। हाल में ज्यादातर राज्यों में रेवेन्यू रिकवरी एक्ट लाया गया है जिससे लोन रिकवरी का रास्ता खुला है। इस एक्ट के जरिए हम सीधे बीडीओ के पास जाकर उनको बैंक के ऋण की वसूली में सहायता करने को कह सकते हैं। सभी राष्ट्रीयकृत बैंक इस अधिनियम की सहायता ले सकते हैं। दूसरे, ग्रामीण क्षेत्र में अभी 50 प्रतिशत लोगों के पास आपने खाते नहीं है। उनके खाता खुलवाने का कार्य किया जा रहा है। स्टेट बैंक देश के लगभग सवा लाख गांवों की सेवा कर रही है और आगे जो बचे ग्रामीण क्षेत्र है उनको सेवा देने की योजना है।

 

माइक्रोफाइनांस पर आपकी क्या राय है?

पहले हमारा अनुभव यह था कि हम माइक्रोफाइनांस के अंतर्गत जो ऋण दे रहे थे उसमें 99 प्रतिशत की वसूली हो रही थी, लेकिन आज कल वह कम हो रहा है। पिछले 1-2 सालों में इसमें ज्यादा गिरावट आयी है। इसमें स्वयं सहायता समूह शायद यह सोच रहे हैं कि पैसा न दें तो ठीक होगा। लेकिन फिर भी लगभग 95 प्रतिशत की वसूली है।

 

Leave a Reply

You can use these HTML tags

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>